मुखातिब के सहारे लखनऊ फिर शेर ओ सुखन में परवान चढ़ेगा

कैफ़ी आज़मी को याद करते हुए मुखातिब ने महफ़िल ए मुशायरा रखा है.मुखातिब  की कन्वेनर आयशा का कहना है की हम नए लोग हैं और नए ही लोगों के साथ अपने शहर के अदब को सम्भालने बढ़ने निकले हैं.इस प्रोग्राम में कैफ़ी की ज़िदगी पर Read More …